Category Archives: न्यायपालिका

न्यायिक स्वतंत्रता क्या है?

न्यायालय की स्वतंत्रता की संकल्पना इग्लैण्ड से ली गयी है। सन् 1616 में न्यायाधीश कोक को उनके पद से (किंग बेन्च के मुख्य न्यायाधीश) पदच्युत किया गया था। इस समय न्यायाधीश अपने पद को सम्राट के प्रसादपर्यन्त धारणा करते थे और सम्राट के अन्य कर्मचारियों के समान थे। वे सम्राट की इच्छा से पद से… Read More »

न्यायपालिका का अर्थ, परिभाषा, कार्य एवं स्वतन्त्रता

राजनीतिक शक्ति की स्वेच्छाचारिता से नागरिक स्वतन्त्रताओं व अधिकारों की रक्षा के लिए सभी लोकतन्त्रीय देशों में स्वतन्त्र व निष्पक्ष न्यायपालिका की व्यवस्था की गई है। यह सरकार का ऐसा अंग है जो विधायिका और कार्यपालिका को अपने अधिकार क्षेत्र का अतिक्रमण करने से रोकता है। न्यायपालिका किसी भी सभ्य समाज का आधार है। सभ्य… Read More »