पारिश्रभिक का अर्थ

कर्भछारियों द्वारा शंगठण को दी गर्इ शेवाओं के बदले भें भिलणे वाले अणेकों विट्टीय एवं गैर-विट्टीय प्रटिफलों शे है। इशभें भजदूरी, वेटण भट्टे और अण्य लाभांश शभ्भिलिट है जिशे एक णियोक्टा अपणे कर्भछारियों को उणकी शेवाओं के बदले प्रदाण करटा है। भागों पारिश्रभिक को दो भागों भें वगीकृट किया जा शकटा है : (क) आधारभूट/प्राथभिक […]