Category Archives: प्रकाश संश्लेषण

प्रकाश संश्लेषण किसे कहते हैं?

ऑक्सीकृत P700 अपने इलेक्ट्रान, प्रकाश तंत्र II से ग्रहण करता है जबकि प्रकाश तंत्र I के प्राथमिक ग्राही अणु अपने इलेक्ट्रानों का स्थानांतरण एक अन्य इलेक्ट्रानवाहक NADP द्वारा NADPH  बनाने हेतु करते हैं जो कि एक प्रबल अपचायक है। इस प्रकार हम देखते है कि जल के अणुओं से इलेक्ट्रानों का सतत प्रवाह PSII से… Read More »