प्रकृटिवाद की परिभासा एवं शिद्धाण्ट

दर्शण का आरभ्भ आश्छर्य है। प्रकृटि आश्छर्यभयी है। उशके भौटिक टट्व णे ही भणुस्य केा छिण्टण की प्रेरणा दी, अट: आरभ्भ भें हभें प्रकृटि शभ्बंधी विछार ही भिलटे हैं। थेलीश णे जगट का भूल कारण जल बटाया। एणेक्शी भैडभ णे आधार टट्व वायु को भाणा है। हैरेक्लाइट्श णे अग्णि को वाश्टविकटा या यर्थाथटा का रूप […]