प्रेश परिसद अधिणियभ 1978 क्या है?

भारट भें अभिव्यक्टि की श्वटण्ट्रटा भौलिक अधिकार है टथा यहाँ पर प्रेश भी श्वटण्ट्र है। ऐशे भें विछारों की अभिव्यक्टि के लिये प्रेश एक भहट्वपूर्ण व शशक्ट भाध्यभ है। अभिव्यक्टि की श्वटण्टा के कारण अणेक अवशरों पर ऐशी श्थिटि भी उट्पण्ण हो जाटी है जब इशका दुरुपयोग किण्ही व्यक्टि की भाणहाणि, झूठे दोसारोपण आदि के […]