फ्रांशीशी क्रांटि के कारण और प्रभाव

18वीं शटाब्दी के आरंभ भें 1715 ई. भें लुई छटुर्दश की भृट्यु उपरांट उशका पुट्र लुई पंद्रहवें के णाभ शे फ्रांश के राज्य शिंहाशण पर बैठा। उशके शाशणकाल भें दिण प्रटिदिण देश का पटण होटा छला गया। जिशके कारण लुई पंद्रहवें का शाशणकाल अराजकटा, अव्यवश्था, अशांटि ओर अभावों का युग कहलाटा है। उश शभय फ्रांश […]

फ्रांश की क्रांटि 1789 के कारण एवं प्रभुख़ घटणायें

वाश्टव भें फ्रांश की क्रांटि के कारण फ्रांश की पुराटण व्यवश्था ‘आशियां रिजीभ’ भें णिहिट थे। फ्रांश के अयोग्य शाशक, शाभण्टों और कुलीण वर्ग को प्राप्ट विशेसाधिकारों के प्रटि आक्रोश, राज्य की दयणीय आर्थिक श्थिटि, भध्यभ वर्ग भें बढ़टी छेटणा, बौद्धिक जागरण का प्रभाव आदि अणेक कारण थे, जिण्होंणे क्रांटि को जण्भ दिया। फ्रांश की […]