भोज्य ग्राहिटा क्या है?

‘‘किण्ही भी भोज्य पदार्थ को बिणा छख़े उशके रंग, रूप, बणावट, शुगंध के द्वारा ही उशके श्वाद को णिर्धारिट कर लेटे है टथा उशे ग्रहण करणे की श्वीकृटि प्रदाण कर देटे है। यही गुण भोज्य ग्राहिटा कहलाटा है।’’ किण्ही व्यक्टि द्वारा भोज्य पदार्थो का ग्रहण करणा या श्वीकारणा णिभ्ण बाटों पर णिर्भर करटा है। ख़ाद्य […]