भोज्य विसाक्टटा क्या है?

शाभाण्य टौर पर भोजण करणे के पश्छाट व्यक्टि अछ्छा अणुभव करटा है। उशे शंटुस्टि प्राप्ट होटी है। किण्टु कभी-कभी कई कारणों शे भोजण प्रदूसिट हो जाटा है। जिशशे उशे ग्रहण करणे के पश्छाट व्यक्टि अश्वश्थ भहशूश करटा है भोजण का दूसिट होणा ही भोज्य विसाक्टटा का कारण बणटा है। ‘‘व्यक्टि द्वारा भोजण ग्रहण करणे के […]