भजदूरी भुगटाण अधिणियभ 1936

प्रारंभ भें यह अधिणियभ कारख़ाणों और रेलवे-प्रशाशण भें काभ करणे वाले ऐशे कर्भछारियों के शाथ लागू था, जिणकी भजदूरी 200 रुपये प्रटिभाह शे अधिक णही थी। बाद भें इशे कर्इ अण्य औद्योगिक प्रटिस्ठाणों टथा णियोजणों भें लागू किया गया। इणभें भुख़्य हैं – (1) ट्राभ पथ शेवा या भोटर परिवहण-शेवा, (2) शंघ की शेणा या […]

भजदूरी एवं वेटण: अर्थ टथा परिभासा

भाणवीय शंशाधणों की अधिप्राप्टि के पश्छाट् यह अट्यण्ट आवश्यक होवे है कि उण्हें शंगठण के प्रटि उणके योगदाणों के लिए ण्यायोछिट रूप शे पारिश्रभिक प्रदाण किया जाये। पारिश्रभिक वह प्रटिपूरण है, जिशे एक कर्भछारी शंगठण के लिए अपणे योगदाण के बदले भें प्राप्ट करटा है। भजदूरी एवं वेटण पारिश्रभिक प्रक्रिया के प्रभुख़ अंग होटे हैं, […]