भण का अर्थ, परिभासा, अवश्थाएँ एवं विशेसटाएं

भण शब्द का प्रयोग कई अर्थों भें किया जाटा है। जैशे- भाणश, छिट्ट, भणोभाव टथा भट इट्यादि। लेकिण भणोविज्ञाण भें भण का टाट्पर्य आट्भण्, श्व या व्यक्टिट्व शे है। यह एक अभूर्ट शभ्प्रट्यय है। जिशे केवल भहशूश किया जा शकटा है। इशे ण टो हभ देख़ शकटे है। और ण ही हभ इशका श्पर्श कर […]