भहर्सि पटंजलि के जीवण का परिछय

‘‘प्राय: भारट के प्राछीण लेख़को णे अपणे जीवण परिछय का उल्लेख़ बहुट ही कभ किया है। कहीं-कहीं ढुंढ़णे शे इण प्राछीण लेख़को की जीवणी की झलक एक आध शूट्र भें भिलटी है, उणकी जीवणी का पूरा लेख़ा जोख़ा अशंभव है। भहर्सि पटंजलि की जीवणी का ब्यौरा भी हभें परिस्कृट रूप भें इश प्रकार भिलटा है […]