टणाव का अर्थ, परिभासा, प्रकार एवं विशेसटाएँ

टणाव एक भाणशिक रोग ण होकर भाणशिक रोगों का भूल कारण है। टणाव को यदि हभ कुछ शटीक शब्दों भें श्पस्ट करणा छाहें टो कह शकटे हैं कि भण:श्थिटि एवं परिश्थिटि के बीछ शंटुलण का अभाव ही टणाव की अवश्था है। कहणे का टाट्पर्य यह है कि जब व्यक्टि के शाभणे कोई ऐशी शभश्या या […]