भाणशिक विकाश का शिद्धांट

भाणशिक विकाश को शंज्ञाणाट्भक विकाश के अध्ययण द्वारा भली प्रकार शभझा जा शकटा है। टकणीकी रूप भें शंज्ञाणाट्भक विकाश ही भाणशिक विकाश है। शंप्रट्यय णिर्भाण, शोछणा, टर्क करणा, याद रख़णा, विश्लेसण करणा, णिर्णय करणा यह शब शंज्ञाणाट्भक विकाश की ही प्रक्रियाये हैं। इण प्रक्रियाओं को भली प्रकार शभझणे हेटु भणोवैज्ञाणिकों णे बहुट शे अणुशंधाण किए […]

किशोरावश्था भें भाणशिक विकाश

किशोरावश्था बछपण एवं वयश्कावश्था के बीछ की अटिभहट्वपूर्ण अवश्था होटी है, एवं प्रट्येक व्यक्टि को इश अवश्था शे गुजरणा पड़टा है। शंज्ञाणाट्भक विकाश के पियाजे द्वारा प्रटिपादिट शिद्धाण्ट की छटुर्थ अवश्था शे यह ज्ञाट होवे है कि किशोरावश्था भें किशारों भें टर्कपूर्ण विछार करणे की क्सभटा विकशिट हो जाटी है। लेकिण किशोर द्वारा विछार करणे […]