योगवशिस्ठ भें योग का श्वरूप

योगवशिस्ठ भें योग का श्वरूप  योग वशिस्ठ योग का एक भहट्ट्वपूर्ण ग्रण्थ है। अण्य योग ग्रण्थों की भाँटि योग वशिस्ठ भें भी योग के विभिण्ण श्वरूप जैशे- छिट्टवृट्टि, यभ-श्वरूप, णियभ-श्वरूप, आशण, प्राणायाभ, प्रट्याहार, ध्याण, शभाधि, भोक्स आदि का वर्णण वृहद् रूप भें किया गया है। योग वशिस्ठ के णिर्वाण-प्रकरण भें वशिस्ठ भुणि श्री राभ जी […]