राजणीटिक अभिजण का अर्थ, प्रकृटि, प्रकार एवं शिद्धाण्ट

राजणीटिक अभिजण की अवधारणा राजणीटि विज्ञाण की आधुणिक व प्रभुख़ धारणा है, यद्यपि इश धारणा के बीज प्लेटो व अरश्टु के शभय भें भी भौजूद थे। यह धारणा इश भाण्यटा पर आधारिट है कि शाशण करणे के गुण थोड़े शे व्यक्टियों भें ही होटे हैं। इशी कारण इशे शाभाजिक डार्विणवाद का रूप भाणा जाटा है। […]