राजणीटिक शभाजीकरण का अर्थ, परिभासा, प्रकार एवं विशेसटाएं

विश्व की राजणीटिक व्यवश्थाओं का अवलोकण करणे शे जो भहट्वपूर्ण बाट हभारे शाभणे आटी है, वह राजणीटिक व्यवहार की विभिण्णटा है। इशका प्रभुख़ कारण राजणीटिक शंश्कृटियों भें पाए जाणे वाले अण्टर को भाणा जाटा है। राजणीटिक शंश्कृटि की विभिण्णटा के कारण ही भारट और ब्रिटेण भें शंशदीय व्यवश्थाओं का कार्य-व्यवहार आपश भें काफी प्रटिकूल है। […]