Category Archives: राष्ट्रवाद

राष्ट्रवाद अर्थ, परिभाषा व स्वरूप

सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक विकास के मुख्य दौर में राष्ट्रों का जन्म हुआ। राष्ट्र का जन्म हुआ तो राष्ट्रीयता का स्वरूप भी सामने आया व उसके बाद राष्ट्रवाद का जन्म हुआ जो कि राष्ट्रीयता के सनातन रूप का प्रगतिशील स्वरूप है। प्रत्येक व्यक्ति का कर्त्तव्य है कि वह देश की उन्नति व समृद्धि के लिए… Read More »