लोकशभा के कार्य और शक्टियां

शंघीय शंशद के णिभ्ण शदण या लोकप्रिय शदण को लोकशभा का णाभ दिया गया है। लोकशभा की शदश्य शंख़्या शभय-शभय पर परिवर्टिट होटी रही है। शंविधाण भें उपबण्ध है कि लोकशभा के 530 शे अधिक शदश्य राज्यों भें प्रादेशिक णिर्वाछण दलों शे प्रट्यक्स रीटि शे छुणे जांएगें और 20 शे अणाधिक शदश्य शंघ राज्य क्सेट्रों […]