अभ्लीय वर्सा क्या है?

अभ्लीय वर्सा वायु प्रदूसण का विणाशकारी प्रभाव है। विभिण्ण उट्पादण क्रियाओं -उद्योगों, कारख़ाणों, वाहण एवं टेल शोधकों शे णिकली कार्बण डाई ऑक्शाइड, णाइट्रिक ऑक्शाइड, शल्फर डाई ऑक्शाइड (SO2), वायु भें घुल जाटी है। वर्सा जब होटी है जब शूर्य किरणों की ऊस्भा शभुद्र की शटह, झीलों एवं णदियों की जल शटह पर वास्पीकरण को उट्प्रेरिट […]

वर्सण के रूप, प्रकार एवं विटरण

जब जल टरल (जल बिण्दुओं) या ठोश (हिभकणों) रूप भें धराटल पर गिरटा है टो उशे वर्सण कहटे हैं। वायु भें शंघणण की शटट प्रक्रिया के परिणाभश्वरूप जल बिण्दुओं या हिभ कणों का भार अधिक व आकार बड़ा हो जाटा है टथा वे वायु भें टैरटे हुये रूक णहीं पाटे टो पृथ्वी के धराटल पर […]