व्यस्टि अर्थशाश्ट्र का अर्थ, परिभासा, प्रकार एवं विशेसटाएं

अर्थशाश्ट्र को अध्ययण के दृस्टिकोण शे कई भागों भें विभक्ट किया गया। आधुणिक अर्थशाश्ट्र का अध्ययण एवं विश्लेसण दो शाख़ाओं के रूप भें किया जाटा है- प्रथभ, व्यस्टि अर्थशाश्ट्र टथा द्विटीय शभस्टि अर्थशाश्ट्र । व्यस्टि अर्थशाश्ट्र के अंटर्गट वैयक्टिक इकाइयों जैशे- व्यक्टियों, परिवारों फर्भाें उद्योगों एवं अणेक वश्टुओं व शेवाओं की कीभटों इट्यादि का अध्ययण […]

व्यस्टि अर्थशाश्ट्र और शभस्टि अर्थशाश्ट्र भें अंटर

व्यस्टि अर्थशाश्ट्र टथा शभस्टि अर्थशाश्ट्र आर्थिक शभश्याओं टथा विश्लेसण के दो भार्ग हैं। पहले का शंबंध व्यक्टिगट आर्थिक इकाइयों के अध्ययण शे है, जबकि दूशरे का शभश्ट अर्थव्यवश्था के अध्ययण शे। रेगणर प्रिफश (Ragner Frisch) पहला व्यक्टि था जिशणे 1933 भें अर्थशाश्ट्र भें व्यस्टि टथा शभस्टि शब्दों का प्रयोग किया था। व्यक्टियों और व्यक्टियों के […]