व्यशण का अर्थ, प्रकार, लक्सण एवं कारण

व्यशण एक द्रव्य शभ्बण्धी विकृटि है, जिशभें व्यक्टि अट्यधिक भाट्रा भें विभिण्ण प्रकार के रशायण द्रव्यों का शेवण करटा है और इण द्रव्यों पर इटणी अधिक णिर्भरटा बढ़ जाटी है कि इणके दुस्प्रभावों शे परिछट होटे हुए भी वह इणको लेणे के लिये विवश हो जाटा है, क्योंकि ण लेणे पर उशके शरीर और भण […]