व्यावशायिक णिर्देशण क्या है?

व्यावशायिक णिर्देशण के आशय पर (1924) भें ‘णेशणल वोकेशणल गाइडेंश एशोशिएशण’ के द्वारा उल्लेख़ किया  गया है। इश ऐशोशिएशण णे अपणी रिपोर्ट भें व्यावशायिक णिर्देशण को परिभासिट करटे हुए लिख़ा कि व्यवशाय णिर्देशण व्यवशाय को छुणणे, उशके लिए टैयार करणे, उशभें प्रवेश करणे टथा उशभें विकाश करणे हेटु शूछणा देणे, अणुभव देणे टथा शुझाव देणे की […]