Category Archives: व्यावहारिक मनोविज्ञान

व्यावहारिक मनोविज्ञान का अर्थ, परिभाषा एवं क्षेत्र

व्यावहारिक मनोविज्ञान मनोविज्ञान का एक पक्ष है जिसके अन्तर्गत मानव की विभिन्न समस्याओं के सुलझाने में मनोवैज्ञानिक सिद्धांतों का प्रयोग किया जाता है। व्यावहारिक मनोविज्ञान के विकास पर सर्व प्रथम पैटर्सन ने व्याख्या की। उन्होने व्यावहारिक मनोविज्ञान के विकास के चार चरण बताए – प्रथम चरण गर्भावस्था, द्वितीय चरण जन्मकाल, तीसरा चरण बाल्यावस्था और चौथा… Read More »

व्यक्तित्व का अर्थ, परिभाषा एवं निर्धारक

प्रत्येक व्यक्ति में कुछ विशेष गुण या विशेषताएं होती है जो दूसरे व्यक्ति में नहीं होतीं। इन्हीं गुणों एवं विशेषताओं के कारण ही प्रत्येक व्यक्ति दूसरे से भिन्न होता है। व्यक्ति के इन गुणों का संगठन ही व्यक्ति का व्यक्तित्व कहलाता है। व्यक्तित्व का अंग्रेजी रूपान्तरण पर्सनलिटी (Personality) है जो लेटिन भाषा के पर्सोना (Persona)… Read More »