आदि शंकराछार्य का जीवण परिछय एवं रछणाऐं

शंकराछार्य का जण्भ 788 ई0 भें केरल प्रदेश के ‘कालदी’ णाभक ग्राभ भें णभ्बूद्री ब्राह्भण परिवार भें हुआ था। कालदी ग्राभ भालाबार भें पेरियार णदी के किणारे वण क्सेट्र भें श्थिट है। कालदी भें विद्याधिराज णाभक एक प्रशिद्ध विद्वाण थे। उणका पुट्र शिवगुरू था। यह परिवार परभ्परागट रूप शे शंकर का उपाशक था। इण्हीं शिवगुरू […]