Category Archives: शारीरिक रोग

सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस के कारण, लक्षण एवं आयुर्वेदिक उपचार

हमारी रीढ का निर्माण छोटी छोटी विशेष आकार एवं संरचना की अस्थियों जिन्हे कशेरुका (Vertebra) कहा जाता है, के मिलने से होता है। इन कशेरुकाओं की कुल संख्या 26 होती है। इनमें से ऊपर की (सिर की और की) प्रथम सात कशेरुकाओं को सर्वाइकल की संज्ञा दी जाती हैं। जिन्हे अग्रेंजी भाषा के अक्षर सी-1… Read More »

गठिया के कारण, लक्षण एवं आयुर्वेदिक उपचार

वह रोग जिसमें जोडों अथवा सन्धियों में सूजन उत्पन्न होती है, गठिया (Arthroitis) कहलाता है। गठिया आधुनिक चिकित्सा विज्ञान में प्रयुक्त होने वाला शब्द है जबकि प्राचीन काल से हिन्दी भाषा में सन्धि शोथ के नाम इस रोग को वर्णित किया गया है। आयुर्वेद शास्त्र में गठिया रोग के लिए आमवात शब्द का वर्णन प्राप्त… Read More »

मोटापा के कारण, लक्षण एवं मोटापा कम करने के उपाय

मोटापा का अर्थ शायद सभी यही लगाते हैं भीमकाय, गोलमटोल, विनोदप्रिय या दिनभर कुछ न कुछ खाते रहने वाला व्यक्ति । मोटापे के संबंध में सभी यही धारणा रखते हैं, वस्तुत: अधिकतर मोटे व्यक्ति कम भोजन करते हैं। अधिकतर मोटे व्यक्ति अपने को मोटा समझते ही नहीं है और कई मोटे व्यक्ति अपने को बहुत… Read More »

ऑस्टियोपोरोसिस के कारण, लक्षण एवं आयुर्वेदिक उपचार

ऑस्टियोपोरोसिस के कारण  आधुनिक समय के विकृत आहार विहार एवं अनियमित दिनचर्या के परिणाम स्वरुप जैसे ही आयु पचास वर्ष से ऊपर पहुचती है प्राय: वैसे ही शरीर की अस्थियो मे विकार उत्पन्न होने प्रारम्भ हो जाते हैं। इन विकारों में अस्थियों के अन्दर के द्रव्यों का घनत्व कम होने लगता है। शरीर की अस्थियों… Read More »

अम्ल पित्त के कारण, लक्षण एवं उपचार

सर्वप्रथम् यह जानना आवश्यक है कि अम्ल पित्त है क्या है ? आयुर्वेद में कहा गया है- अम्लं विदग्धं च तत्पित्तं अम्लपित्तम्। जब पित्त कुपित होकर अर्थात् विदग्ध होकर अम्ल के समान हो जाता है, तो उसे अम्ल पित्त रोग की संज्ञा दी जाती है। पित्त को अग्नि कहा जाता है। त्रिदोषों में अति महत्वपूर्ण… Read More »

अतिसार के लक्षण एवं कारण

अतिसार एक ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति को बार-बार मल निष्कासन हेतु जाना आवश्यक हो जाता है। मल बिल्कुल पतला होकर निकलता है। अतिसार रोग रोगी को असहाय सा बना देता है। रोगी के शरीर में पानी, खनिज लवण और अन्य पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। सामान्य रूप से सभी व्यक्ति इस बीमारी… Read More »

बवासीर क्या है ?

बवासीर या अर्श जिसे अंग्रेजी मे (Piles) कहा जाता है, अर्श शब्द संस्कृत का है, इसे आयुर्वेद में अर्श, यूनानी चिकित्सा बवासीर, अंग्रेजी मे होमोरायड्स या पाइल्स, ये सभी एक ही रोग के पर्यायवाची शब्द हैं, अष्टाग हदय में अर्श के बारे में निम्न प्रकार से वर्णन मिलता है, – अखित प्राणिनो मांसकीलका विशसन्तियत्। अर्शासि… Read More »