Category Archives: संचार

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की अवधारणा

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की अवधारणा इलेक्ट्रानिक मीडिया अपने स्वरूप में प्रिंट मीडिया से एक दम अलग है। भले ही इसका विकास पिंट्र मीडिया से ही हुआ है और पिंट्र मीडिया के ही आर्दशों और परम्पराओं की छाया में यह फलफूल रहा है। लेकिन इसका स्वरूप इसे कई मायनों में प्रिंट मीडिया से एकदम अलग बना देता… Read More »

संचार की अवधारणा, परिभाषा, महत्व, संचार-प्रक्रिया एवं तत्व

अत: कहा जा सकता है कि संचार प्रक्रिया में अर्थों का स्थानान्तरण होता है । जिसे अन्त: मानव संचार व्यवस्था भी कह सकते है। एक आदर्श संचार-प्रक्रिया के प्रारूप को  समझा जा सकता है :- उपरोक्त सभी तत्व एक निश्चित क्रम में क्रियाशील होते है और उस क्रम को संचार का एक मौलिक प्रारूप कहा… Read More »

संचार के प्रकार एवं सिद्धान्त

संचार के प्रकार संचार का मानवीय जीवन पर अत्यधिक प्रभाव पड़ता है, संचार के बिना जीवन की परिकल्पना करना व्यर्थ है। संचार के द्वारा व्यक्तिगत एवं सामाजिक जीवन में सदैव निरन्तरता बनी रहती है। संचार हमारे जीवन को विभिन्न प्रकार से प्रभावित करता है जिसे उद्देश्यों के आधार पर इसे कई प्रकार में विभाजित किया… Read More »

मानव संचार क्या है?

लोग संचार करते हैं, क्योंकि उन्हें संचार करना पडता है। वाक्य काफी भ्रामक लगा, लेकिन यह सत्य है कि संचार मनुष्य की एक मूल लालसा है। हमारे लिए संचार करना काफी आवश्यक है। मनुष्यों के बीच संचार सिर्फ सूचनाओं की सहभागिता भी हो सकता है। यह भावनाओं व विचारों की सहभागिता भी हो सकती है।… Read More »

शाब्दिक संचार क्या है?

जो संचार शब्दों की सहायता से हो, शाब्दिक कहलाता है। यह मौखिक, लिखित या मुद्रित हो सकता है। यदि दो या अधिक लोगों के बीच प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष संबंध हो और शब्दों के माध्यम से सूचना का आदान-प्रदान हो रहा हो तो वह शाब्दिक संचार है। यहां हम लोग मौखिक संचार के बारे में बात… Read More »

समूह संचार क्या है?

समूह संचार को हम कह सकते हैं कि ‘यह तीन या अधिक लोगों के बीच होने वाली अन्योन्यक्रिया है, जो कि एक सांझे लक्ष्य की प्राप्ति हेतु आमने-सामने या किसी अन्य माध्यम से संचार कर रहे होते हैं।’ कुछ विशिष्ट लक्ष्यों व उद्देश्यों वाले लोगों के झुंड को समूह कहा जाता है। संसक्ति समूह का… Read More »

संचार के सिद्धांत

कौन सी चीजें संचार की घटक हैं और कौन सी नहीं, इस पर अकादमिक जगत में काफी चर्चाएं होती रहती हैं। किसी संकेत के अर्थ को समझने के लिए मनुष्यों द्वारा अपनाई जाने वाली प्रक्रिया को समझने के लिए वर्तमान में संचार की कई परिभाषाएं प्रचलन में हैं। कहा जाता है कि संचार में एक… Read More »

जनसंचार का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएँ, कार्य एवं सिद्धांत

जनसंचार के माध्यम हें- समाचार पत्र, रेडियो, टेलीविजन, फिल्म, कम्प्यूटर आदि। आमतौर पर जनसंचार शब्द का प्रयोग टीवी, रेडियो, समाचार-पत्र, पत्रिका, फिल्म या संगीत रिकार्ड आदि के माध्यम से सूचना, संदेश, कला व मनोरंजन सामग्री के वितरण को दर्शाने के लिए किया जाता है। अन्तवैयक्तिक, समूह व अन्य आमने-सामने की स्थिति वाले संचार से जनसंचार… Read More »

जनसंचार के माध्यम के प्रकार

आधुनिक समाज में सूचना का विशेष महत्व है । सूचना के अभाव में व्यक्ति शेष विश्व से कट जाता है। अलग-थलग पड़ जाता है। व्यक्ति के साथ-साथ देश के आर्थिक, राजनैतिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक विकास में सूचना और सूचना सम्प्रेषण के माध्यम अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । इस प्रकार जनसंचार का अर्थ है सूचना… Read More »

जनसंचार का सबसे पुराना माध्यम और उनका इतिहास

जनसंचार माध्यमों का इतिहास  1. दूरदर्शन – संचार का सर्वाधिक लोक-प्रचलित दृश्य-श्रव्य माध्यम है दूरदर्शन । यह वर्तमान तकनीकी युग की महत्त्वपूर्ण भेंट है । तस्वीरों को प्रसारित करने की युक्ति सन् 1890 ई. में ज्ञात हो चुकी थी । 1906 में ली.डी. फारेस्ट ने शीशे की नली से बिजली निकालकर नया प्रयोग किया तथा… Read More »