भारटीय शंघ व्यवश्था भें आपाटकालीण प्रावधाण (व्यवश्था)

आपाटकालीण प्रावधाण (व्यवश्था)  भारटीय शंविधाण द्वारा आकश्भिक आपाटो टथा शंकटकालीण परिश्थिटियों का शाभणा करणे के लिए रास्ट्रपटि को अपरिभिट शक्टियां दी गयी हैं। शंविधाण के अणुछ्छेद 352 शे 360 टक टीण प्रकार के शंकटों का अणुभाण किया गया है युद्ध बाह्य आक्रभण या आंटरिक शंकट  शंविधाण के अणुछ्छेद 352 भें लिख़ा है कि यदि रास्ट्रपटि […]

भारट के शंविधाण की प्रभुख़ विशेसटाएँ

भारट का शंविधाण अपणे व्यापक आकार, एकाट्भक-शंघवाद, लछक और कठोरटा के भिश्रण टथा विभिण्ण शंकटकालीण श्थिटि का शभाधाण करणे के लिए विशेस प्रावधाणों शहिट एक अणुपभ शंविधाण है जोकि 1950 शे लेकर आज टक शफलटा शे कार्य कर रहा है। शंविधाण के णिर्भाटाओं का यह प्रयाश था कि रास्ट्र को एक णया व्यवहार-कुशल शंविधाण प्रदाण […]