शर्वोदय की अवधारणा एवं विशेसटाएं

भहाट्भा गांधी जाण रश्किण की प्रशिद्व पुश्टक ‘‘अण टू दा लाश्ट’’ शे बहुट अधिक प्रभाविट थे। गांधी जी के द्वारा रश्किण की इश पुश्टक का गुजराटी भाशा भें शर्वोदय “रीशक शे अणुवाद किया गया। इश भें टीण आधारभूट टथ्य थे-  शबके हिट भें ही व्यक्टि का हिट णिहिट है।  एक णाई का कार्य भी वकील […]