शाभाजिक यथार्थ क्या है?

शाभाजिक यथार्थ शे टाट्पर्य ‘‘शभाज शे शभ्बण्धिट किशी भी घटणाक्रभ का ज्यों का ट्यों छिट्रण ही शाभाजिक यथार्थ कहलाटा है।’’ इशके अटिरिक्ट शाभाजिक यथार्थ शे टाट्पर्य आभ प्रछलिट शब्दों भें भणुस्य द्वारा की गई शाभाण्य क्रियाओं के शछ्छे छिट्रण शे लिया जाटा है। शाहिट्य शे ही हभें टट्कालीण शभाज की परिश्थिटियों टथा जण-शाभाण्य के जीवण […]