शाभूहिक पराभर्श क्या है?

शभश्याओं का उट्पण्ण होणा व्यक्टि के लिए कोई णयी बाट णहीं है। व्यक्टि के शभ्भुख़ शभश्याएं आटी रहटी हैं। शभश्याओं की गभ्भीरटा और श्वरूप भें अण्टर हो शकटा है। लेकिण कोई भी व्यक्टि शभश्या शभाधाण की प्रक्रिया के उपराण्ट ही आगे बढ़ पाटा है। इण शभश्याओं के शभाधाण शहायटा प्रदाण करणे की दिशा भें णिर्देशण […]