Category Archives: हठयोग

हठयोग का अर्थ, परिभाषा और उद्देश्य

सामान्य रूप से हठयोग का अर्थ व्यक्ति जिदपूर्वक हठपूर्वक किए जाने वाले अभ्यास से लेता है अर्थात किन्ही अभ्यास को जबरदस्ती करने के अर्थ में हठयोग जिदपूर्वक जबरदस्ती की जाने वाली क्रिया है। हठयोग शब्द पर अगर विचार करें तो दो शब्द हमारे सामने आते है ह और ठ।    ह का अर्थ है- हकार… Read More »

हठयोग साधना के ऐतिहासिक विकास एवं परम्परा

हठयोग साधना के ऐतिहासिक विकास को हम दो परम्पराओं में बाँट सकतें है:- (1) परम्परानुसार विकास (2) ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक विकास। हठयोग साधना के ऐतिहासिक विकास  परम्परानुसार विकास –   परम्परानुसार हठ्योग साधना के विकास में ऐसी मान्यता चली आ रही है कि समस्त साधनों का मूल योग है, तप, जप, संन्यास, उपनिषद् ज्ञान आदि मोक्ष… Read More »