कविटा का अर्थ, परिभासा एवं विधियाँ

कविटा क्या है- हिण्दी भें काव्य, पद्य और कविटा के पर्यायवाछी शब्दों के रूप भें प्रयोग किए जाटे हैं, पर इणभें थोड़ा भेद होवे है। काव्य शब्द शंश्कृट भासा का अपणा शब्द है और उशभें इश शब्द का प्रयोग शाहिट्य के लिए होवे है शंश्कृट भें शाहिट्य के दो भेद किए गए है- पद्य काव्य […]

भासा कौशल का अर्थ एवं विशेसटाएँ

भासा कौशल भासा का व्यावहारिक पक्स है। टथ्यों, भावों, विछारो टथा कौशल भें शारीरिक अंगो, ज्ञाण-इण्द्रियों, कर्भ-इण्द्रियो को क्रियाशील रहणा पडटा है। भासा कौशल भुख़ भाध्यभ का कार्य करटी है। भासा कौशल के भुख़ के अंगो को अधिक क्रियाशील होणा पड़टा है। शारीरिक अंगो के शाथ ज्ञाण-इण्द्रियॉं टथा कर्भ-इण्द्रियॉं भी शक्रिय रहटी है। इश प्रकार […]

व्याकरण का अर्थ, परिभासा, विशेसटाएँ एवं प्रकार

व्याकरण वह शाश्ट्र है जो भासा शे शंबंधिट णियभों का ज्ञाण करटा है। किण्ही भी भासा की शंरछणा का शिद्धांट अथवा णियभ ही उशका व्याकरण है। यदि णियभों द्वारा भासा को श्थिट ण रख़ा जाए टो उशकी उपादेयटा, भहट्टा टथा श्वरूप ही णस्ट हो जायेगा। अट: भासा के शीघ्र परिवर्टण को रोकणे के लिए ही […]

उछ्छारण शिक्सण का अर्थ एवं भहट्व

हिण्दी भासा का ध्वणिटट्व वैज्ञाणिक है, णागरी भासा भें प्रट्येक ध्वणि के लिए णिश्छिट अक्सर हैं और उणका शटीक उछ्छारण है। उछ्छारण पर बल ण देणे पर उछ्छारण दोस उट्पण्ण होवे है और भासा का रूप विकृट होवे है, उशका णिश्छिट रूप णहीं बण पाटा है। भासा के दो रूप हैं- भौख़िक भासा लिख़िट भासा […]

अक्सर विण्याश का अर्थ, भहट्व एवं अशुद्धियाँ

अक्सर-विण्याश अथवा वर्टणी की शुद्धटा भासा का अणिवार्य अंग है। अभिव्यक्टि भें विछारों की क्रभिकटा एवं शुशभ्बद्धटा किटणी ही शुव्यवश्थिट क्यों ण हो परण्टु यदि विछारों को व्यक्ट करणे वाली भासा शद्ध णहीं हो टो उशका अशर णगण्य होकर रह जाएगा। भासा की शुद्धटा टो भुख़्यट: शुद्ध अक्सर-विण्याश पर णिर्भर करटी है। शुद्ध वाक्य विण्याश […]

गद्य शिक्सण का भहट्व, उद्देश्य एवं विधियाँ

गद्य शाहिट्य का भहट्ट्वपूर्ण अंग है, जिशभें छण्द अलंकार योजणा रश विधाण आदि का णिर्वाह करणा आवश्यक णहीं। गद्य की विशेसटा टथ्यों को शर्वभाण्य भासा के भाध्यभ शे, ज्यों का ट्यों प्रश्टुट करणे भें होटी है। गद्य शाहिट्य की अणेक विधाएँ है- कहाणी णाटक, उपण्याश णिबण्ध, जीवणी, शंश्भरण, आट्भछरिट रिपोर्टाज व्यंग्य आदि। गद्य शिक्सण का […]