एरिक्सन के मनोसामाजिक विकास की अवस्थाएं

विकास की प्रत्येक अवस्था में व्यक्ति संघर्षों का सामना करता है जो परिवर्तन को स्वीकार करके और अनुकूलन द्वारा दूर किये जा सकते हैं । एरिक्सन ने व्यक्तित्व के तीन कारकों, शरीर , अहम और समाज या संस्कृति के प्रभाव को पहचाना । उसके अनुसार व्यक्तित्व विकास इन तीनों कारकों के प्रभाव स्वरूप होता है […]