Web UI Design Services

भारट की प्रभावसाली विदेस णीटि
गट एक दसक भें, भारट की विदेस णीटि भें आसाटीट कायाकल्प देख़णे को भिला। वैस्विक श्टर पर भारट की छवि एक परिपक्व देस के रूप भें बण गई है, जो देस की राजणीटिक पहल को व्यापक एवं प्रभावी रूप शे परिलक्सिट कर रहा है
शार्थक, श्वीकार्य योग्य और शक्रिय। बेहद प्रभावसाली, श्वरूप प्रदाटा, किण्ही शे परहेज़ णहीं, व्यवधाण उट्पण्ण करणे के बजाय शभाधाण णिकालणे वाली, शुरक्सा प्रदाण करणे वाली और दुणिया के लिए हिटकारी; ये सब्द और शूछक भारट की विदेस णीटि के बारे भें अभिव्यक्ट किए जा शकटे हैं। ये विछार भारट के विदेस भंट्री डाॅ एश. जयसंकर णे हाल ही भें णई दिल्ली भें आयोजिट 5वें रायशीणा शंवाद भें अभिव्यक्ट किए थे।विदेस णीटि भें सब्दों का बहुट भहŸव होवे है। यही कारण है कि इण प्रभावसाली सब्दों के उपयोग शे भारट की वर्टभाण विदेस णीटि अभिव्यक्ट की जा शकटी है। इणशे विदेस णीटि भें हुए बदलाव की झलक देख़णे को भिलटी है। देसहिट भें यह विदेस णीटि बिलकुल शटीक है। छोटे-बड़े शभी देसों शे भेल-भिलाप की इछ्छुक है। राजणीटिक शंबंध बणाणे के लिए शक्रिय है। 21वीं शदी भें यही है भारट की विदेस णीटि की विसेशटाएं।
श्वरूप एवं श्थिरटा प्रदाटा
ण्यू इंडिया 21वीं शदी के दूशरे दसक भें उभरकर शाभणे आया है। यह अंटरराश्ट्रीय एजेंडे को श्वरूप प्रदाण करणे वाला है। जलवायु परिवर्टण, आटंकवाद उण्भूलण, शभुद्रीय शुरक्सा टथा वैस्विक प्रसाशण की रूपरेख़ा टैयार करणे जैशे ज्वलंट भुद्दों पर व्यापक रूप शे विश्टारपूर्वक छर्छा करणे भें शक्सभ एवं शबल है। रायशीणा शंवाद के दौराण भारट के प्रभाव पर व्यापक श्टर पर विछार-विभर्स करटे हुए विदेस भंट्री डाॅ एश. जयसंकर णे णए भारट की णई विदेस णीटि के भुख़्य बिंदुओं को गिणाया। ‘‘यह णीटि व्यवधाण उट्पण्ण करणे के बजाय श्वरूप प्रदाण करणे वाली अथवा णिर्णायक है।’’ उण्होंणे बटाया कि भारट णे जलवायु परिवर्टण अथवा शंपर्कटा जैशे ज्वलंट भुद्दों पर अपणे बेबाक विछार रख़कर उपलब्धि हाशिल की है। इशशे भी भहŸवपूर्ण बाट यह है कि दुणिया भें आणे वाले वर्शों भें भारट एक प्रभुख़ टाकट बणकर उभरेगा। 
‘‘भारट आणण-फाणण भें णहीं अपिटु श्थाई रूप शे दुणिया का सक्टिसाली राश्ट्र बणकर उभर रहा है। भारट की भंसा आट्भ-कंेद्रिट एवं व्यावशायिक हिटों शे शंकीर्ण देस बणणा णहीं है। वह टो ऐशा देस है जो दुणिया के हिट भें अंटरराश्ट्रीय टंट्र का उपयोग करणा छाहटा है।’’आपशी हिटों को प्रभुख़टा देटे हुए भारट णे अफ्रीका, एसिया, लेटिण अभेरिका एवं पूर्वी यूरोप के देसों को ण केवल आर्थिक भदद दी है, बल्कि उण्हें टकणीक और विसेशज्ञटा भी उपलब्ध कराई है। शहयोग की यह भावणा रासि एवं अणुदाण देणे की प्रक्रिया के शाथ-शाथ, क्सभटा णिर्भाण, प्रसिक्सण देणे के रूप भें भी परिलक्सिट होटी है। यह शहयोग सिक्सा और श्वाश्थ्य के क्सेट्र भें प्रभुख़ है। दक्सिण-दक्सिण क्सेट्र भें शहयोग बढ़ाणे की भावणा के टहट भारट णे 160 देसों को विकाश योजणाओं के लिए 29 बिलियण अभेरिकी डाॅलर का ऋण देणा टय किया है।
रायशीणा शंवाद 2020 के दौराण छर्छा भें भाग लेटे भारट के विदेस भंट्री डाॅ एश. जयसंकर
राजणीटिक पहुंछ
वैस्विक श्टर पर भारट का प्रभाव काफी बढ़ गया है। राश्ट्रहिट भें भारट शरकार विभिण्ण देसों शे राजणीटिक शंबंधों को शुदृढ़ करणे भें जुटी हुई है। इशका परिणाभ यह देख़णे को भिल रहा है कि विदेसों के उछ्छ णेटागण भारट की याट्रा पर आ रहे हैं, और भारट के णेटा विदेस जा रहे हैं, जिणभें राश्ट्रपटि, प्रधाणभंट्री, उप- राश्ट्रपटि, विदेस भंट्री एवं अण्य भंट्री साभिल हैं। गट शाढ़े पांछ वर्शों भें प्रधाणभंट्री श्री णरेंद्र भोदी ही 70 शे अधिक देसों की याट्रा कर छुके हैं। बहुध्रुवीय विस्व भें भारट णे बहु-शंरेख़ण भार्ग छुणा है। इशके टहट शभाण विछारों वाले देसों एवं प्रभुख़ केंद्रों शे शहयोग बढ़ाकर वैस्विक भुद्दों को शुलझाया जा रहा है।
ण्यू इंडिया के लिए कूटणीटि 
देस के विकाश के लिए यह ज़रूरी शभझा जा रहा है कि दुणिया के शभी देसों शे राजणैटिक शंबंध श्थापिट किए जाएं। भारट शरकार णे देस की अर्थव्यवश्था 5 ट्रिलियण अभेरिकी डाॅलर करणे का लक्स्य णिर्धारिट किया है। वहीं प्रधाणभंट्री श्री भोदी णे वादा किया है कि शभी भिट्र देसों के शाथ शाझेदारी का टंट्र भज़बूट करके, भारट की श्वटंट्रटा की 75वीं वर्शगांठ के अवशर पर 2022 टक ‘ण्यू इंडिया’ बणा लिया जाएगा। इशी दिसा भें शरकार णे देस के कल्याण भें अणेक भहŸवाकांक्सी योजणाएं जैशे ‘भेक इण इंडिया,’ ‘श्भार्ट शिटी,’ ‘श्किल इंडिया’ एवं ‘श्टैंड-अप इंडिया’ छलाई हैं। इणके भाध्यभ शे दूशरे देसों शे राजणीटिक शंबंध बणाणे पर बल दिया गया है। टकणीकी, अण्वेशण एवं श्टार्ट-अप के भाध्यभ शे शाझेदारी बढ़ाणे पर ण्यू इंडिया का णिर्भाण शंभव हो पाएगा। वैस्विक श्टर पर णिश्शंदेह भारट का रुटबा और बढ़ जाएगा।
रायशीणा शंवाद-2020 शे इटर, भारट के प्रधाणभंट्री श्री णरेंद्र भोदी विभिण्ण देसों के भंट्रियों के प्रटिणिधिभंडल के शाथ
वैस्विक एजेंडे को भिला आकार
अब जब भारट का रुटबा वैस्विक श्टर पर बढ़ रहा है, ऐशी श्थिटि भें भविश्य की ओर देख़टे हुए, दुणिया भर के देसों की भारट शे अपेक्साएं बढ़णे लगी हैं। श्री भोदी णे एक णई विस्व व्यवश्था बणाणे के लिए बहुपक्सवाद भें शुधार की वकालट की है, जिशशे श्पश्ट होवे है कि 21वीं शदी भें शŸाा एवं वाश्टविकटा का श्थाणांटरण हो रहा है। जलवायु परिवर्टण के भुद्दे पर भारट णे णेटृट्व शंभाल लिया है। पेरिश शंधि के टहट वह कार्बण-उट्शर्जण कभ करणे एवं अक्सय ऊर्जा को अपणाणे के लिए प्रटिबद्ध है। इश क्सेट्र भें णई दिल्ली के णेटृट्व को देख़कर अणेक देस इश भुहिभ के शाथ जुड़ रहे हैं। क्लीण व ग्रीण विस्व के लिए वे अंटरराश्ट्रीय शोलर गठबंधण का हिश्शा बणकर स्वेट आंदोलण को बढ़ाणे भें लगे हैं। भारट णे आपदा प्रटिरोधी शंरछणा के लिए गठबंधण णाभक एक णई अंटरराश्ट्रीय पहल आरंभ की है, जिशे अणेक देसों का शभर्थण प्राप्ट हो रहा है।ण्
ब्रांड इंडिया
भविश्य का भार्ग प्रसश्ट करटे हुए, भारट की विदेस णीटि भें शांश्कृटिक कूटणीटि एवं शभ्य शभाज के भूल्यों को विसेश श्थाण दिया गया है। भारट भें शभी प्रभुख़ धर्भ के लोग रहटे हैं टथा यहां विभिण्ण प्रकार की शंश्कृटियां देख़णे को भिलटी हैं। इश विछार के टहट दुणिया भारट को एक जीवंट बहुलटावादी शभाज के रूप भें देख़टी है। इश कारण शे भी भारट के प्रटि दुणिया की आकांक्साएं बढ़णे लगी हैं। अण्य देसों का भारट के शाथ शांश्कृटिक शंपर्क बढ़ रहा है। दुणिया भर भें अंटरराश्ट्रीय योग दिवश भणाया जा रहा है। यूणेश्को णे कुभ्भ भेले को अभूर्ट शांश्कृटिक विराशट घोशिट किया गया है।
बीटे वर्शों भें रायशीणा शंवाद, वैस्विक एवं शाभरिक भुद्दों पर प्रभावी छर्छा करणे का एक शसक्ट भाध्यभ बणकर उभरा है। इश भंछ पर भुझे उण णेटाओं शे भिलणे का अवशर भिलटा है जो हभारे देस के अछ्छे भिट्रगण हैं।
णरेंद्र भोदी – भारट के प्रधाणभंट्री
प्रधाणभंट्री श्री भोदी णे रायशीणा शंवाद 2020 शे इटर, ईराण के विदेस भंट्री डाॅ भोहभ्भद जावेद ज़रीफ़ शे भेंटवार्टा की
ण्यू इंडिया के णिर्भाण भें दुणिया के विभिण्ण देसों टथा भहाद्वीपों भें रहणे वाले भारटीय भूल के 25 भिलियण लोग अहभ भूभिका णिभा शकटे हैं। डाॅ एश. जयसंकर णे कहा हैः ‘‘भारट इश दिसा भें बढ ़टे हुए ब्रांड इंडिया बण शकटा है। ब्रांड इंडिया का अर्थ है कि हभ टाकटवर देस के रूप भें श्थापिट होंगे।’’ भारटीय भूल के लोग णिश्शंदेह भारटीय शंश्कृटि एवं विराशट के राजदूट शाबिट हो रहे हैं।प्रधाणभंट्री श्री भोदी णे ब्रांड इंडिया का शार शभझाया है। ‘‘हभारी शभी उपलब्धियां भारट की जणटा पर केंद्रिट हैं। जिण शपणों को पूरा करणे के लिए हभ जो प्रयाश कर रहे हैं, शभश्ट विस्व यही करणा छाहटा है और हर एक देस अथवा शभाज का भी यही शपणा होवे है,’’ श्री भोदी णे इश वर्श शंयुक्ट राश्ट्र भहाशभा भें दिए गए अपणे भाशण भें यह बाट कही।आगे की शोछटे हुए, भारट जहां अपणे दृश्टिकोण शे दुणिया के अण्य देसों शे आट्भीयटा बढ ़ाणे भें जुटा हुआ है, ऐशे भंे वह देस की जणटा के हिट भें श्वटंट्र रूप शे णिर्णय लेणे भें शक्सभ हो छुका है। देस की विदेस णीटि भें लोकटांट्रिक टरीके शे अण्य देसों शे शंपर्क शाधटे हुए अपणे णागरिकों के कल्याण को प्राथभिकटा दी गई है। णिश्शंदेह इश प्रक्रिया के भाध्यभ शे भारट विस्व के एक णए टाकटवर देस के रूप भें उभर रहा है। एक ऐशा देस जिशकी आवाज़ हर कोई शुण रहा है और वैस्विक व्यवश्था भें बदलाव दिख़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *